मंगलवार, 26 जून 2012

78.साल ऐसा पिछला गुजरा

78.

साल ऐसा पिछला गुजरा 
याद अमिट जो छोड़ गया 
भूल के भी सारी जिंदगानी को 
भूल न पायेगा दिल उन लम्हों को 
भर जाये भले जख्म सारा 
भर न पायेगा घाव पिछले साल का सारा 
जब - जब याद दिल को 
वो चोट आयेगा 
जिन्दगी खुद को रोते हुए पायेगा 
याद कर सारी ख़ुशी को 
दिल भुला न पायेगा 
विगत के सारे ख़ुशी को 
खुशियों का ऐसा बौछार मिला 
ग़मों का ऐसा तूफान मिला 
बीते वर्ष का प्रथम छह महिना 
बीता हर पल 
बन खुशियों का तराना 
बाँकी का छह महिना 
गुजरा बन के 
विभत्स सपना 
जैसा कि पहले 
न कभी था सोंचा न समझा 
ऐसे ही बिता 
गुजरे वर्ष का हर महिना !

सुधीर कुमार ' सवेरा ' 
31-12-1983 समस्तीपुर 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें