सोमवार, 8 सितंबर 2014

294 .मिलने का वादा तो उनके मुँह से निकल गया !


२ ९ ४. 
मिलने का वादा तो उनके मुँह से निकल गया !
पूछी जगह जो मैंने , कहा हँसके ख्वाब में !!

अंदाज वो ही समझें मेरे दिल की आह का !
जख्मी जो हो चुका हो किसी के निगाह का !!

तुमने ना किया याद कभी भूल कर हमें !
हमने तुम्हारी याद में सब कुछ भुला दिया !!

मेरा ही नाम ज़माने ने कर दिया बदनाम ,
जिसने मुझे इश्क सिखाया ,
उसका क्यों नहीं कहीं नाम !

सुधीर कुमार ' सवेरा ' 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें