सोमवार, 13 अक्तूबर 2014

313 . वक्त की तीखी किरणो ने

३१३ .


वक्त की तीखी किरणो ने 

ओठों के 

हँसते शबनमी बुंदों को 

सवेरे की 

लाली देखने से ही पहले 

जला डाला  |


सुधीर कुमार ' सवेरा '

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें