बुधवार, 11 फ़रवरी 2015

395 .कुछ ले लो

३९५ 
कुछ ले लो 
कुछ दे के 
कुछ छोड़ दो 
कुछ खो के 
कुछ रख के 
कुछ भूल के !

सुधीर कुमार ' सवेरा '

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें