गुरुवार, 16 अप्रैल 2015

447 . विवेक शून्य मनुष्य

४४७ 
विवेक शून्य मनुष्य 
हाय !
जी रहे हैं क्या खाय 
पतन पथ पर दौड़ने में 
तिल - तिल कर घुलने में 
हे माँ !मन विकृत करने में 
बढ़ न पाये कभी मेरे पग 
भोगूँ न कभी ऐसा अभिशाप !

सुधीर कुमार ' सवेरा '

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें