शनिवार, 15 अक्तूबर 2016

612 .प्रनमों भगवति पद अरविन्द। मानस हमर करिअ सानन्द।।


                                     ६१२
प्रनमों भगवति पद अरविन्द। मानस हमर करिअ सानन्द।।
जइओ सतत तुअ भगति विहीन। तइओ न उचित रहिअ हम दिन।।
जयों कर तनय सहस अपराध। न कर जननि परिपालन बाघ।।
जदि तेजिअ मोहि पर - सुत जानि। जग जननी - पद तएह हानि।।
अञ्जलि बाँधि निवेदिअ तोहि। हर गेहिनि परसनि रहु मोहि।।
तुअ पद प्रणत रमापति भान। पतक हरिअ करिअ वरदान।।
( तत्रैव )

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें