मंगलवार, 10 जनवरी 2017

659 . चण्डिका - जय कमलनयनी कमल कुच युग , कमल चंवरनि शोभिता।


                                    ६५९
                                चण्डिका
जय कमलनयनी कमल कुच युग , कमल चंवरनि शोभिता। 
कमलपत्र सुचरणराजित , दैतयदल मद गज्जिता।।
अष्ट भुजबल महिष मर्दिनि , सिंहवाहिनि चण्डिका। 
दाँत खटखट जीभ लहलह , श्रवण कुण्डल शोभिता।।
शूल - कर अर्धङ्ग शंकरि , नाम आदि कुमारिका। 
'श्रवण सिंह ' प्रसाद मांगथि , उचित दिअ वर देविका।।
                                               श्रवणसिंह ( तत्रैव )  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें