रविवार, 12 मार्च 2017

706 . काली -------- जय काली कलि कलुष - विनाशिनि जगत जननि जगदम्बे।


                                      ७०६
                                    काली 
जय काली कलि कलुष - विनाशिनि जगत जननि जगदम्बे।
भीत भक्त पर सदय रहब मा दीन हीन अबलाम्बे।।
सुरहुक ऊपर कष्ट पड़ल लखि हरल दुख अविलम्बे। 
शुम्भ निशुम्भ महिष संहारल मारल असुरक दम्भे।।
मानस - निविड़ - तिमिर कुल - नाशन , तुअ पद नख शशि बिम्बे।
' नन्दिनी 'क दिशि ध्यान रहए नित , मिनति एक अछि अम्बे।। 
                                                नन्दिनी देवी 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें