रविवार, 26 मार्च 2017

717 . दुर्गा------------------------ सिंह चढलि माता असुर - निकन्दिनि मोदिनि डोल गति - दापे।


                                      ७१७
                                      दुर्गा
सिंह चढलि माता असुर - निकन्दिनि मोदिनि डोल गति - दापे।  
आयुध उग्र शोभए आठो कर जाहि डरे अरि उर काँपे।।
दूर्वा - दल सन कान्ति मनोहर , सिरें शोभ चान कलापे। 
प्रणत मुकुन्द मांगए वर दुर्गे , हरिअ त्रिविध भव - तापे।। 
                                                         तन्त्रनाथ झा 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें