मंगलवार, 4 अप्रैल 2017

725 . शंकरि त्रिभुवन जननि शुभंकरि , करुणामय पर शिवनारी।


                                     ७२५
शंकरि त्रिभुवन जननि शुभंकरि , करुणामय पर शिवनारी।
विश्वम्भर करुणाकर शङ्कर , उमाकान्त हर त्रिपुरारी।।
तुअ चरनन सेवारत अनुखन , काशीवास शरणसारी। 
सोमनाथ गणनाथ विनय कर , पुरहु आस कुमतिन टारी।। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें