गुरुवार, 20 अप्रैल 2017

740 . नयनक दोष कतय नहि होए। जननि कृपावसे दूकर धोए।।


                                      ७४० 
नयनक दोष कतय नहि होए। जननि कृपावसे दूकर धोए।।
करजोड़ि पए पड़ि विनमञो तोहि। एहि दुखभार संतारह मोहि।।
कतए कतए नहि कएलह उधार। पालि न मारिअ करह विचार।।
भयभञ्जनि तोहे माए भवानि। आबे किए बिसरलि अपनुकि वानि।।
नृप जगजोति कह न कर उदास। जतहि ततहि जग तोहरे आस।
                                                                                 ( तत्रैव  )

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें