शुक्रवार, 19 जून 2015

503 . सम्पूर्ण जगत माँ मय है

५०३ 
सम्पूर्ण जगत माँ मय है 
मेरा अपना इसमें क्या ?
आकाश पृथ्वी सबमे तूँ 
मुझको किसीसे लेना क्या ?

सुधीर कुमार ' सवेरा '

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें