सोमवार, 11 मई 2015

476 . मोह ममता है झूठी

४७६ 
मोह ममता है झूठी 
भोग झूठे आशा झूठी 
कहते सभी सुनते सभी 
दिन रात इन्ही में पड़े 
तभी तो कहते हैं 
यही है अविद्याग्रस्त जीवन !

सुधीर कुमार ' सवेरा '

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें