बुधवार, 20 मई 2015

490 ..इस देह का क्या महत्व

४९० 
इस देह का क्या महत्व 
जिसे हर पल डर होता 
कभी शत्रु कभी शासक का 
डाकू का मित्र का देवता का 
भूत प्रेत दैत्य का 
फिर कैसा इससे ममत्व 
हम इससे अलग हैं 
पूर्ण रूपेण स्वतंत्र हैं 
आत्मा को माँ में लगाना है 
चरम सुख को पाना है !

सुधीर कुमार ' सवेरा ' 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें