रविवार, 24 मई 2015

494 . तेरा नहीं मेरा नहीं

४९४ 
तेरा नहीं मेरा नहीं 
सच पूछो तो 
कोई हमारा नहीं 
खेल बहुत यहाँ 
पर दूर माँ से बैठो 
उसकी किस्मत को क्या कहें ?
उसका कहीं गुजारा नहीं !

सुधीर कुमार ' सवेरा '

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें